Tina Gupta
0
All posts from Tina Gupta
Tina Gupta in Tina Gupta,

महान ग्राफिक: उभरते बाजार भंडार बनाम बाह्य वित्त पोषण

यह एक दिलचस्प ग्राफिक है, विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो उभरते बाजार का अनुसरण कर रहे हैं (या उनमें रहते हैं) क्योंकि यह कमजोर उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं में से कुछ का परेशानियों से कर रहे सामना के बारे में विस्तार से विवरण देती है - मुख्य रूप से ब्राजील, तुर्की, भारत, इंडोनेशिया और दक्षिण अफ्रीका के बारे में।

2013 में इन देशों पर सूक्ष्म दृष्टि रखी गइ है क्योंकि उनके शेयर बाजारों और मुद्राओं में गिरावट आइ है मई 2013 के आसपास फेड के मौद्रिक प्रोत्साहन में कमी के संकेत के मद्देनजर। समस्या यह है कि ये 5, “नाजुक पांच” के रूप में जाना जानेवाले विदेशी वित्तपोषण पर काफी निर्भर हैं क्योंकि ये सभी बड़े शेष चालू खाता चलाते हैं। मात्रात्मक सहजता में अंत के मद्देनजर अगर विदेशी पूंजी वापस खींचा जाता है तो इन देशों को भुगतान संतुलन के कुछ संकटों का सामना करना पड़ेगा।

ऊपर ग्राफिक में हमें इस समस्या का एक अधिक सूक्ष्म रूप देखने के लिए मिल सकता है क्योंकि देश के विदेशी मुद्रा भंडार प्रत्येक देश के जीइएफआर (सकल बाह्य वित्त पोषण आवश्यकता) के साथ बराबर में मिलाकर रखा गया है जो उनके अल्पकालिक विदेशी ऋण के साथ साथ उनके चालू खाते के घाटे को दिखाने का एक अच्छा तरीका है।

इस नए उपाय से हम देखते हैं कि तुर्की विशेष रूप से मुसीबत में है, जबकि ब्राजील की स्थिति अधिक प्रबंधनीय लगती है। “नाजुक पांच” के अलावा, चिली और हंगरी जैसे देशों को भी शामिल किया जा सकता है ऐसे देशों के रूप में जो वित्त पोषण के दबाव का सामना कर सकते हैं।